इंसान बनाने वाली शिक्षा की जरूरत: मोहन भागवत

इंसान बनाने वाली शिक्षा की जरूरत: मोहन भागवत

उद्घाटन: सरसंघ चालक ने पतंजलि गुरुकुलम् का किया उद्घाटन, योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज ने कहा, राम मंदिर के लिए भूमि अधिग्रहण कर देश को सौंपे सरकार… हरिद्वार। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत जी ने कहा कि देश में केवल रोजगार देने वाली नहीं बल्कि इंसान को इंसान बनाने वाली शिक्षा देना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि ऐसी शिक्षा के बल पर ही हम भारत को विश्वगुरु बना सकते हैं। वे पतंजलि योगपीठ की ओर से पतंजलि गुरुकुलम् भवन के उद्घाटन समारोह को बतौर मुख्य…

उद्घाटन: सरसंघ चालक ने पतंजलि गुरुकुलम् का किया उद्घाटन, योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज ने कहा, राम मंदिर के लिए भूमि अधिग्रहण कर देश को सौंपे सरकार…

हरिद्वार। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत जी ने कहा कि देश में केवल रोजगार देने वाली नहीं बल्कि इंसान को इंसान बनाने वाली शिक्षा देना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि ऐसी शिक्षा के बल पर ही हम भारत को विश्वगुरु बना सकते हैं। वे पतंजलि योगपीठ की ओर से पतंजलि गुरुकुलम् भवन के उद्घाटन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि गुरुकुल अपने आप में एक विशिष्ठ शब्द है। गुरुकुल में गुरु अपने छात्रों को अपना कुलवाहक मानकर तैयार करते हैं व दीक्षित कर उन्हें मनुष्य बनाते हैं। गुरुकुल में विद्यार्थियों को पढ़ाई-लिखाई के साथ-साथ मनुष्यता के गुण सिखाते जाते हैं। गुरुकुल में उत्कृष्ट यशस्वी प्रयोग निरंतर चलते रहने चाहिए। भागवत जी ने कहा कि पतंजलि गुरुकुलम् से निकले छात्र गाँव-गाँव में गुरुकुलों की स्थापना करेंगे। यह गुरुकुल विद्या की गंगोत्री है।
जूनापीठाधीश्वर पूज्य आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानन्द गिरि जी ने कहा कि उपकरणों के युग में भी विवेकशील मानव ही श्रेष्ठ है। कृषि, स्वदेशी, योग, आयुर्वेद और शिक्षा के क्षेत्र में पतंजलि के प्रयोग दैवीय है। उन्होंने कहा कि ये प्रयोग इस बात का प्रमाण है कि यहाँ भागवत सत्ता मौजूद है। आज घर-घर में पतंजलि के स्वदेशी उत्पाद पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं पतंजलि गुरुकुलम् में भारत का भविष्य देख रहा हूँ। यहाँ पढ़ने वाले देश के भविष्य को गढ़ेंगे। इससे पूर्व सरसंघचालक श्री मोहन भागवत ने पतंजलि अनुसंधान संस्थान, पतंजलि हर्बल गार्डन व पतंजलि गोशाला का भ्रमण कर वहां चल रहे कार्यों को देखा। उन्होंने पतंजलि हर्बल गार्डन में पौधा भी रोपा। कार्यक्रम में महिला मुख्य केन्द्रीय प्रभारी साध्वी देवप्रिया जी, पूज्य आचार्य प्रद्युम्न जी महाराज, डाॅ. जयदीप आर्य (मुख्य केन्द्रीय प्रभारी), श्री राकेश कुमार (मुख्य केन्द्रीय प्रभारी), मुख्य महाप्रबंधक श्री ललित मोहन जी, रुड़की के विधायक श्री प्रदीप बत्रा जी, शिवालिकनगर नगर पालिका के चेयरमैन श्री रजीव शर्मा आदि मौजूद रहे।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना