आयुर्वेद अमृत

आयुर्वेद अमृत

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
शीतीकरोति चान्नाद्यं भुंजानोऽतिविलम्बितम्।
भुड्क्ते बहु च शीतं च न तृप्तिमधिगच्छति।।
शैत्याद्वहुत्वाद्वैरस्याद् भुक्तं क्लेशेन पच्यते।
अति विलम्बपूर्वक भोजन न करना- बहुत धीरे-धीरे भोजन करने से सारा अन्न शीतल हो जाता है। अन्न अधिक मात्रा में खाया जाता है व तृप्ति भी नहीं होती है। इस प्रकार खाने से भोजन के शीतल, मात्रा से अधिक व विरस हो जाने के कारण पचने में कठिनाई होती है।
अत्युष्णभोजनाज्जिह्वाकण्ठौष्ठहृदयोदरम्।।
दह्यते न रसं वेत्ति रोगांश्चाप्नोति दारुणान्।
मुखाक्षिपाक-वैसर्प-रक्तपत्ति-भ्रमज्वरान्।।
अत्युष्ण भोजन न करना- अति उष्ण भोजन करने से जिह्वा, कण्ठ, ओष्ठ, हृदय तथा उदर में जलन होती है, भोजन के रस की ठीक से अनुभूति नहीं होती। अति उष्ण भोजन से मुखपाक (मुँह का पकना), अक्षिपाक, विसर्प, रक्तपित्त, भ्रम तथा ज्वर आदि भयंकर रोग हो जाते हैं।
अतिशीताशिनः शूलं ग्रहणीमार्दवं घृणा।
कफवाताभिवृद्धिश्च कासो हिक्का च जायते।।
अतिशीतल भोजन न करना- अतिशीतल भोजन करने वाले व्यक्ति को शूल, ग्रहणी की मृदुलता, घृणा, कफ व वात की वृद्धि, कास एवं हिक्का आदि रोग हो जाते हैं।
रूक्षं करोति विष्टम्भमुदावर्तं विवर्णताम्।
ग्लानिं बह्वशितं वायोः प्रकोपं मूत्रनिग्रहम्।।
रूक्ष भोजन न करना- रूख भोजन से विष्टम्भ, उदावर्त, विवर्णता व ग्लानि होती है तथा मात्रा से अधिक खाया जाता है। रूक्ष भोजन से वायु का प्रकोप तथा जलीय अंश के अभाव में मूल का अवरोध हो जाता है।
अतिस्निग्धाशिनस्तन्द्रीतृष्णाजीर्णोदरामयाः।
भवन्ति कफमेदोत्था रोगाः कण्ठोद्भवास्तथा।।
अतिस्निग्ध भोजन न करना- अतिस्निग्ध भोजन करने वाले को तन्द्रा, तृष्णा, अजीर्ण, उदररोग हो जाते हैं तथा कफविकार, मेदोजन्य रोग एवं कण्ठरोग भी हो जाते हैं।
विष्टम्भोद्वेष्टनक्लेशचेष्टाहानिविसूचिकाः।
ज्ञेया विकारा जन्तूनामतिबह्नशनोद्भवाः।।
अतिभोजन न करना- अत्यधिक मात्रा में भोजन करने वाले व्यक्तियों को विष्टम्भ, उद्वेष्टन, क्लेश, चेष्टाहानि (निष्क्रि- यता) तथा विसूचिका (हैजा) आदि रोग हो जाते हैं।

Related Posts

Advertisement

Latest News