गुरुवाणी

अयुर्वेदाम्रित

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
रूक्ष भोजन न करना- रूक्ष भोजन से विष्टम्भ, उदावर्त, विवर्णता व ग्लानि होती है तथा मात्रा से अधिक खाया जाता है। रूक्ष भोजन से वायु का प्रकोप तथा जलीय अंश के अभाव में मूत्र का...

विज्ञापन

नवीनतम

पोस्ट

संस्था समाचार

स्वामी रामदेव जी गुरुकुलों की स्थापना कर महर्षि दयानंद के स्वप्न को साकार कर रहे हैं: राजनाथ सिंह स्वामी रामदेव जी गुरुकुलों की स्थापना कर महर्षि दयानंद के स्वप्न को साकार कर रहे हैं: राजनाथ सिंह
मध्य-प्रदेश में गुरुकुलम् व पतंजलि के विविध प्रकल्प स्थापित करने हेतु आमंत्रित: मोहन यादव  जो देश से पाया उसे देश को वापस लौटाना है: पू. स्वामी जी  पूज्य स्वामी जी के तप से गुरुकुल महाविद्यालय ज्वालापुर पुनः अपने अतीत के गौरव को प्राप्त करेगा: पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज।  हरिद्वार। पतंजलि योगपीठ के 29वें स्थापना दिवस] पतंजलि योगपीठ महर्षि दयानन्द सरस्वती जी की 200वीं जयन्ती एवं गुरुकुल ज्वालापुर के संस्थापक पूज्य स्वामी दर्शनानन्द जी की...

अन्य विशेष

आयुर्वेद दवा का विरोध क्यों…?, आयुर्वेद को दबाने का प्रयास क्यों…?  आखिर कौन रच रहा पतंजलि के खिलाफ साजिशे……   आयुर्वेद/एलोपैथी : डाॅक्टरों की कमेटी पतंजलि आए, देंगे जवाब आयुर्वेद दवा का विरोध क्यों…?, आयुर्वेद को दबाने का प्रयास क्यों…?  आखिर कौन रच रहा पतंजलि के खिलाफ साजिशे…… आयुर्वेद/एलोपैथी : डाॅक्टरों की कमेटी पतंजलि आए, देंगे जवाब
हरिद्वार। योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज के एलोपैथी चिकित्सा पद्धति पर अपने विचार रखने के बाद पतंजलि योगपीठ के महामंत्री...