प्रकृति संरक्षित करने में वनवासी समाज का बड़ा योगदान

प्रकृति संरक्षित करने में वनवासी समाज का बड़ा योगदान

उद्घाटन: पतंजलि मंे पंचकर्म चिकित्सा एवं अनुसंधान केन्द्र का उद्घाटन । कोटद्वार (उत्तराखण्ड)। महिला पतंजलि योग समिति उत्तराखण्ड की ओर से निंबूचैड़ में दो दिवसीय राज्य कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस मौके पर महिला मुख्य केन्द्रीय प्रभारी पूज्या साध्वी देवप्रिया जी ने जीवन में योग के महत्व पर प्रकाश डाला। कहा कि सेवा और साधना में संतुलन ही एक योगी की पहचान होती है, जिसे बनाए रखना आवश्यक है। भाबर क्षेत्र के निंबूचैड़ स्थित पार्थ फार्म हाउस में आयोजित कार्यशाला का शुभारम्भ मुख्य अतिथि महिला मुख्य केन्द्रीय प्रभारी पूज्या…

उद्घाटन: पतंजलि मंे पंचकर्म चिकित्सा एवं अनुसंधान केन्द्र का उद्घाटन ।

कोटद्वार (उत्तराखण्ड)। महिला पतंजलि योग समिति उत्तराखण्ड की ओर से निंबूचैड़ में दो दिवसीय राज्य कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस मौके पर महिला मुख्य केन्द्रीय प्रभारी पूज्या साध्वी देवप्रिया जी ने जीवन में योग के महत्व पर प्रकाश डाला। कहा कि सेवा और साधना में संतुलन ही एक योगी की पहचान होती है, जिसे बनाए रखना आवश्यक है। भाबर क्षेत्र के निंबूचैड़ स्थित पार्थ फार्म हाउस में आयोजित कार्यशाला का शुभारम्भ मुख्य अतिथि महिला मुख्य केन्द्रीय प्रभारी पूज्या साध्वी देवप्रिया जी ने किया। कार्यक्रम में योग साधिका प्राक्षी और साथियों ने गणेश वंदना की। इसके बाद योग साधिकाओं ने विभिन्न आसनों की शानदार प्रस्तुतियां दीं। समिति की केन्द्रीय प्रभारी साध्वी देवप्रिया जी ने कार्यशाला में मौजूद भाई-बहनों को पंच महायज्ञ का ज्ञान दिया। इस अवसर पर भारत स्वाभिमान के राज्य प्रभारी श्री भास्कर जी, महिला राज्य प्रभारी बहन सीमा जी, राज्य कार्यकारिणी सदस्य बहन शोभा, समाज सेविका शशि प्रभा आदि मौजूद रहे। -साभार: हिन्दुस्तान’

Related Posts

Advertisement

Latest News