केदारनाथ में विष्व षान्ति हेतु पूज्य आचार्य श्री द्वारा यज्ञ

केदारनाथ में विष्व षान्ति हेतु पूज्य आचार्य श्री द्वारा यज्ञ

1- 11,475 फीट की ऊँचाई पर सबसे ऊँची यज्ञशाला का दावा । 2-  उत्तराखण्ड में समृद्धि के लिए यज्ञ कुंड में डाली आहुति । रुद्रप्रयाग (उत्तराखण्ड)। पतंजलि योगपीठ के महामंत्री पूज्य आचार्य श्री ने केदारनाथ धाम स्थित ध्यान गुफा के पास में नौ दिवसीय यज्ञ-हवन शुरू कर दिया है। उन्होंने उत्तराखण्ड, देश की सुख-समृद्धि और केदारनाथ यात्रा के कुशल संचालन के लिए यज्ञकुंड में आहुतियां दी। पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज का दावा है कि यह यज्ञशाला विश्व की सबसे ऊँचे स्थान पर बनी पहली यज्ञशाला है। यज्ञशाला समुद्रतल से…

1- 11,475 फीट की ऊँचाई पर सबसे ऊँची यज्ञशाला का दावा ।

2-  उत्तराखण्ड में समृद्धि के लिए यज्ञ कुंड में डाली आहुति ।

रुद्रप्रयाग (उत्तराखण्ड)। पतंजलि योगपीठ के महामंत्री पूज्य आचार्य श्री ने केदारनाथ धाम स्थित ध्यान गुफा के पास में नौ दिवसीय यज्ञ-हवन शुरू कर दिया है। उन्होंने उत्तराखण्ड, देश की सुख-समृद्धि और केदारनाथ यात्रा के कुशल संचालन के लिए यज्ञकुंड में आहुतियां दी। पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज का दावा है कि यह यज्ञशाला विश्व की सबसे ऊँचे स्थान पर बनी पहली यज्ञशाला है। यज्ञशाला समुद्रतल से 11,475 फीट ऊँचाई पर स्थित है। यज्ञ का समापन दुर्गा सप्तमी को होगा।
पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज बीते 26 सितम्बर को केदारनाथ के दस दिवसीय प्रवास पर पहुंच गए थे। शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन भगवान केदारनाथ के दर्शन और पूजा अर्चना के बाद वे ध्यान गुफा पहुंचे, जहाँ विधि-विधान से पूजा अर्चना के बाद ध्यान गुफा परिसर में नौ दिवसीय गायत्री यज्ञ जप साधना का शुभारम्भ किया गया। इस अवसर पर उन्होंने गायत्री शक्ति व माँ दुर्गा के नौ स्वरूपों का आह्वान करते हुए उनकी स्तुति की, साथ ही भगवान केदारनाथ व भैरवनाथ का स्मरण करते हुए मध्य हिमालय क्षेत्र में आयोजित यज्ञ से जुड़ी सभी धार्मिक परम्पराओं का निर्वहन किया। इसके बाद वेद मंत्रों के साथ यज्ञकुंड में स्वयं के साथ उत्तराखण्ड व देश के कल्याण के लिए आहुतियाँ दी, साथ ही देश में व्याप्त समस्याओं के निराकरण के लिए भगवान केदारनाथ से कामना की। इस मौके पर बीकेटीसी के सीईओ बीडी सिंह समेत हरिद्वार से आए उनके कई शिष्य व तीर्थ पुरोहित मौजूद थे। आगामी 2 से 4 अक्टूबर तक पूज्य आचार्य श्री ध्यान गुफा में जप और योग-साधना करेंगे। इधर, मंदिर समिति के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि शारदीय नवरात्र को लेकर पूज्य आचार्य श्री द्वारा ध्यान गुफा परिसर में नौ दिवसीय यज्ञ शुरू किया गया है। इस अनुष्ठान की सभी व्यवस्थाएं मंदिर समिति की ओर से की गई हैं।

Related Posts

Advertisement

Latest News