आर्योद्देश्यरत्नमाला

आर्योद्देश्यरत्नमाला

आर्योद्देश्यरत्नमाला   10. परलोक- जिससे सत्यविद्या से परमेश्वर की प्राप्ति हो, और उस प्राप्ति से इस जन्म वा पुनर्जन्म और मोक्ष में परमसुख प्राप्त होता है, उसको ‘परलोक’ कहलाता है। 11. अपरलोक- जो परलोक से उलटा है, जिसमें दुःख विशेष भोगना होता है, वह ‘अपरलोक’ कहलाता है। 12. जन्म- जिसमें किसी शरीर के साथ संयुक्त होके जीव कर्म करने में समर्थ होता है, उसको ‘जन्म’ कहते हैं। 13. मरण- जिस शरीर को प्राप्त होकर जीव क्रिया करता है, उस शरीर और जीव का किसी काल में जो वियोग हो जाना…

आर्योद्देश्यरत्नमाला

 

10. परलोक- जिससे सत्यविद्या से परमेश्वर की प्राप्ति हो, और उस प्राप्ति से इस जन्म वा पुनर्जन्म और मोक्ष में परमसुख प्राप्त होता है, उसको ‘परलोक’ कहलाता है।

11. अपरलोक- जो परलोक से उलटा है, जिसमें दुःख विशेष भोगना होता है, वह ‘अपरलोक’ कहलाता है।

12. जन्म- जिसमें किसी शरीर के साथ संयुक्त होके जीव कर्म करने में समर्थ होता है, उसको ‘जन्म’ कहते हैं।

13. मरण- जिस शरीर को प्राप्त होकर जीव क्रिया करता है, उस शरीर और जीव का किसी काल में जो वियोग हो जाना है, उसको ‘मरण’ कहते हैं।

14. स्वर्ग- जो विशेष सुख और सुख की सामग्री को जीव का प्राप्त होना है, वह ‘स्वर्ग’ कहलाता है।

15. नरक- जो विशेष दुःख और दुःख की सामग्री को जीव का प्राप्त होना है, उसको ‘नरक’ कहते हैं।

16. विद्या- जिससे ईश्वर से लेके पृथिवीपर्यन्त पदार्थों का सत्य विज्ञान होकर ध्न से यथायोग्य उपकार लेना होता है, इसका नाम ‘विद्या’ है।

17. अविद्या- जो विद्या से विपरीत है, भ्रम अन्ध्कार और अज्ञानरूप है, उसको ‘अविद्या’ कहते हैं।

18. सत्पुरुष- जो सत्यप्रिय ध्र्मात्मा विद्वान् सब के हितकारी और महाशय होते हैं, वे ‘सत्पुरुष’ कहलाते हैं।

19. सत्सîõ-कुसîõ- जिस करके झूठ से छूटके सत्य की ही प्राप्ति होती है ‘सत्सघõ’, और जिस करके पापों में जीव पफंसे, उसको ‘कुसघõ’ कहते हैं।

20. तीर्थ- जितने विद्याभ्यास सुविचार ईश्वरोपासना ध्र्मानुष्ठान सत्य का संग ब्रह्यचर्य जितेन्द्रियतादि उत्तम कर्म है, वे सब ‘तीर्थ’ कहलाते हैं।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना