आयुर्वेद के समर्थन में पतंजलि योगपीठ पहुंचे वैष्णव संतगण ।

आयुर्वेद के समर्थन में पतंजलि योगपीठ पहुंचे वैष्णव संतगण । अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद के पदाधिकारियों ने पतंजलि योगपीठ पहुंचकर पूज्य आचार्य बालकृष्ण से मुलाकात की। संतों ने योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज और पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी के आयुर्वेदिक दवाओं को समर्थन दिया। संतों ने पूज्य आचार्य श्री का शाॅल ओढ़ाकर सम्मान भी किया। अखिल भारतीय श्रीपंच निर्मोही अणि अखाड़ा अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास ने कहा कि योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज और पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी ने योग एवं आयुर्वेद के माध्यम से पूरे विश्व में भारत…

आयुर्वेद के समर्थन में पतंजलि योगपीठ पहुंचे वैष्णव संतगण ।

अखिल भारतीय वैष्णव अखाड़ा परिषद के पदाधिकारियों ने पतंजलि योगपीठ पहुंचकर पूज्य आचार्य बालकृष्ण से मुलाकात की। संतों ने योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज और पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी के आयुर्वेदिक दवाओं को समर्थन दिया। संतों ने पूज्य आचार्य श्री का शाॅल ओढ़ाकर सम्मान भी किया। अखिल भारतीय श्रीपंच निर्मोही अणि अखाड़ा अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास ने कहा कि योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज और पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी ने योग एवं आयुर्वेद के माध्यम से पूरे विश्व में भारत का मान बढ़ाया है। योग और आयुर्वेद चिकित्सा प्राचीनकाल से ही भारत में प्रचलित है। जिनका व्यक्ति के शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता। कोरोना महामारी के दौरान पतंजलि योगपीठ की ओर से निर्मित दवाओं से लाखों लोग ठीक हुए हैं। ऐसे में आयुर्वेद पर सवाल उठाना बिल्कुल भी ठीक नहीं है।

श्रद्धेय स्वामी जी महाराज एवं पूज्य आचार्य श्री का आयुर्वेद चिकित्सा प्रणाली से स्वास्थ्य के क्षेत्र में अहम योगदान।

अखिल भारतीय श्रीपंच निर्वाणी अणि अखाड़ा अध्यक्ष श्रीमहंत धर्मदास ने कहा कि योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज एवं श्रद्धेय आचार्य बालकृष्ण जी आयुर्वेद चिकित्सा प्रणाली से स्वास्थ्य के क्षेत्र में अहम योगदान प्रदान कर रहे हैं। महामंडलेश्वर सांवरिया बाबा ने कहा कि योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज एवं श्रद्धेय आचार्य बालकृष्ण जी भारत की शान हैं। पतंजलि योगपीठ के महामंत्री श्रद्धेय आचार्य बालकृष्ण जी ने कहा कि भारतीय ऋषि मुनियों द्वारा प्रणीत योग व आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को विश्व अपना रहा है। असाध्य रोगों के उपचार में भी योग व आयुर्वेद पूरी तरह कारगर है। योग व आयुर्वेद पर पतंजलि योगपीठ की ओर से किए जा रहे अनुसंधानों का लाभ देश दुनिया को मिल रहा है। इस दौरान महंत मोहनदास खाकी, महंत रामजीदास, सांवरिया बाबा, महंत अगस्त दास, महंत मनीष दास, महंत नरेंद्र दास, ब्रहमांड गुरु अनंत महाप्रभु, महंत बिहारी शरण दास आदि शामिल रहे।

 

Advertisement

Latest News