पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम

शिक्षा, चिकित्सा, वैचारिक और सांस्कृतिक आजादी के लिए बड़े संकल्पों की आवश्यकता

पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम

भारत के 75वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर पतंजलि योगपीठ के परमाध्यक्ष व पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलाधिपति परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज एवं पतंजलि योगपीठ के महामंत्री व पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलपति प.पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने पतंजलि योगपीठ-2 परिसर में ध्वजारोहण कर समस्त देशवासियों को शुभकामनाएँ दी।

  • विविध प्रलोभनों से परे, एकनिष्ठ होकर राष्ट्र निर्माण व माँ भारती के वैभव के लिए आगे बढ़ें: पू.आचार्य जी
 हरिद्वार। भारत के 75वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर पतंजलि योगपीठ के परमाध्यक्ष व पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलाधिपति परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज एवं पतंजलि योगपीठ के महामंत्री व पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलपति प.पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने पतंजलि योगपीठ-2 परिसर में ध्वजारोहण कर समस्त देशवासियों को शुभकामनाएँ दी। इस अवसर पर प.पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज ने कहा कि हमने विगत 75 वर्षों में बहुत कुछ अर्जित किया है और भविष्य में बहुत कुछ अर्जित करना शेष है।
     उन्होंने कहा कि हमने राजनैतिक आजादी तो लगभग 77 साल पहले प्राप्त कर ली थी किन्तु अभी भी आर्थिक आजादी, शिक्षा की आजादी, चिकित्सा की आजादी, वैचारिक और सांस्कृतिक आजादी और स्वाधीनता के साथ हमें आगे बढ़ने के लिए कुछ बड़े संकल्पों की आवश्यकता है। उन्होंने आह्वान किया कि मैकाले की शिक्षा पद्धति, विदेशी चिकित्सा पद्धति और विदेशी अर्थव्यवस्था का बहिष्कार करो। देश में स्वदेशी शिक्षा, स्वदेशी चिकित्सा, स्वदेशी अर्थव्यवस्था हो और उससे एक स्वावलम्बी, आत्मनिर्भर राष्ट्र बने, इसके लिए सब भारतीयों को एक साथ खड़े होने की आश्वयकता है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के साथ-साथ हमारा राष्ट्र का मंदिर कैसे स्वस्थ, समृद्ध व परम वैभवशाली बनेगा, उसके लिए हमें अपने-अपने कर्तव्यों की आहुति देनी होगी। हम योग पथ, कर्तव्य पथ पर चलते हैं और आज 45 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का आर्थिक साम्राज्य परमार्थ के लिए है। देश के प्रधानमंत्री जी का सपना 2047 तक विकसित भारत बनाने का है। यदि सारा राष्ट्र एक जुट होकर दो-दो हाथ अपने कर्म को अपना धर्म मानकर निभाएँ तो हम 2047 तक का सपना 2037 तक पूरा कर सकते हैं।
     इस अवसर पर परम पूज्य आचार्य जी महाराज ने कहा कि जिस स्वप्न को देश के वीरों, शहीदों व क्रान्तिकारियों ने देखा था, वह स्वप्न अब देश में साकार होता दिख रहा है। हम गौरवशाली हैं कि उस क्षण में विद्यमान हैं। अब देश के गौरव, वैभव, गरिमा व प्रतिष्ठा, विकास, समृद्धि एवं देश के प्रति समर्पण के लिए जीने का समय आ गया है। हम सब एक होकर विविध तरह के प्रलोभनों या बहकावों से परे होकर, एकनिष्ठ होकर राष्ट्र निर्माण व माँ भारती के वैभव के लिए आगे बढ़ें। कार्यक्रम में मुख्यातिथि ने कहा कि देशभक्ति हर मजहब, हर दीन में है लेकिन कुछ दीन ऐसे हैं जिसमें धरती को माँ कहा जाता है, उसमें एक सनातन धर्म है। हमारे शिया फिरके में मुसलमानों के चैथे खलिफा ने बताया है कि ये मिट्टी है और दुनिया में कोई भी चीज इस मिट्टी के बिना नहीं बन सकती। हम भारत की धरती पर हरिद्वार में पतंजलि में परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज के मागदर्शन में तिरंगा लहराकर दुनिया को संदेश देंगे कि इन स्वामियों ने भारत का सर जितना बुलंद किया है, हिंदुस्तान के हर इंसान को भारत का सर बुलंद करना चाहिए।
      पतंजलि गुरुकुलम्, आचार्यकुलम्, पतंजलि विश्वविद्यालय के छात्र-छात्रओं ने देशभक्ति से ओत-प्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। एन.सी.सी. के विद्यार्थियों तथा पराक्रम सिक्योरिटी के जवानों ने परेड़ कर राष्ट्र ध्वज को सलामी दी। इस अवसर पर श्री रामभरत, श्री एन.पी. सिंह, बहन ऋतम्भरा शास्त्री, बहन अंशुल जी, बहन पारूल जी, स्वामी सम्पूर्णानंद, श्री अजय आर्य, प्रो. महावीर अग्रवाल, श्री राकेश कुमार, श्रीमती अराधना कौल, डाॅ. अनुराग वाष्र्णेय सहित संस्थान से सम्बद्ध सभी इकाइयों व सेवा प्रकल्पों के सभी संन्यासीगण, इकाई प्रमुख, विभागाध्यक्ष, सभी शैक्षणिक इकाइयों के छात्र-छात्राएँ सम्मिलित रहे।

Related Posts

Advertisement

Latest News