योग नेचुरौपैथी बिल को लेकर पीएम से मिलेंगे: पू.स्वामी जी

योग नेचुरौपैथी बिल को लेकर पीएम से मिलेंगे: पू.स्वामी जी

पतंजलि में प्राकृतिक चिकित्सा पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में योगऋर्षि ने कहा, मैं आश्वस्त हूँ कि पीएम इस बिल को पास कराएंगे

हरिद्वार। योगऋर्षि परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज ने कहा कि आयुष मंत्रालय बनने के बाद सभी राज्यों में आयुष अस्पतालों का निर्माण हुआ। आयुष मंत्रालय बनने के बाद आगे की एक रूपरेखा बाकी है। इस रूपरेखा के तहत योग नेचुरोपैथी का बिल बन गया है। आगामी मार्च माह में योग नेचुरोपैथी के बिल को भी पास कराने के लिए देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि मैं आश्वस्त हूं कि पीएम बिल को पास करायेंगे। जिसके बाद हम नये इतिहास का सृजन करेंगे। ये बातें परम पूज्य स्वामी जी महाराज ने प्राकृतिक चिकित्सा पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के दौरान अपने संबोधन में कही ।
   पतंजलि में प्राकृतिक चिकित्सा पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारम्भ हुआ। इस दौरान परम पूज्य स्वामी जी महाराज ने कहा कि भारत ही नहीं बल्कि विश्व का सबसे बड़ा नेचुरोपैथी का महाकुम्भ पतंजलि में आयोजित हो रहा है। देश के पीएम आयुर्वेद, योग, नेचुरोपैथी और सनातन संस्कृति के प्रति आस्थावान और निष्ठावान ही नहीं बल्कि पीएम सनातन के पुरोधा हैं। राष्ट्र धर्म के योद्धा हैं। पीएम के कारण सनातन को गौरव मिलता है। यह काल सनातन संस्कृति का गौरव काल है। उन्होंने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि हमारा जन्म इस कालखण्ड में हुआ है। सनातन के गौरव काल में जिस भारत भूमि पर जन्म लेने के लिए मुख्य आत्माएं, देवात्माएं तरसती हैं, उस भूमि पर हमारा जन्म हुआ है। यह हमारा सौभाग्य है। कार्यक्रम पर बोलते हुए परम पूज्य स्वामी जी महाराज ने कहा कि नेचुरोपैथी का उद्गम विदेशों से नहीं हुआ, बल्कि नेचुरोपैथी का उद्गम वेदों और उपनिषद् से हुआ है। भारत ने विश्व को ज्ञान, प्रज्ञान और विज्ञान सिखाया है। दो दिनों तक भारत की सांस्कृतिक विरासत पर चर्चा की जाएगी।

Related Posts

Advertisement

Latest News