भगवान श्रीचंद्र ने अज्ञानता को दूर कर समाज को एक सूत्र में  बांधा : पूज्य आचार्य जी महाराज

भगवान श्रीचंद्र ने अज्ञानता को दूर कर समाज को एक सूत्र में  बांधा : पूज्य आचार्य जी महाराज

हरिद्वार। उदासीनाचार्य जगद्गुरू भगवान श्रीचंद्र जी महाराज की 529वीं जयंती श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन और श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन में धूमधाम से मनायी गई। इस मौके पर पतंजलि योगपीठ के महामंत्री परम पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने कहा कि भगवान श्रीचंद्र जी ने समाज में ज्ञान का प्रकाश कर अज्ञानता के अंधकार को दूर किया।
   समारोह में अखाड़ा परिषद् अध्यक्ष एवं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव श्रीमहंत रविंद्रपुरी जी महाराज ने कहा कि भगवान श्रीचंद्र के दिखाए ज्ञान भक्ति के मार्ग का अनुसरण करते हुए संत समाज राष्ट्र कल्याण में अपना योगदान कर रहा है। अखाड़े के मुखिया महंत भगतराम महाराज ने कहा कि साक्षात शिव स्वरूप भगवान श्रीचंद्र जी ने पूरे देश का भ्रमण कर समाज में फैली अज्ञानता और कुरीतियों को दूर किया।
    पहाड़ी बाजार स्थित श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन अखाड़े के अध्यक्ष महंत धूनीदास जी महाराज ने कहा कि समस्त संत समाज के आदर्श भगवान श्रीचंद्र जी महाराज की शिक्षाएं अनंतकाल तक समाज का मार्गदर्शन करती रहेंगी।
   समारोह को श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के कोठारी महंत राघवेन्द्र दास महाराज और जयेन्द्र मुनि, स्वामी हरिचेतनानन्द, महंत धूनीदास, सतपाल ब्रह्मचारी एवं महंत गोविंददास ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर पूर्व विधायक संजय गुप्ता, मुखिया महंत आकाश मुनि, महंत नारायण दास, महंत जसविंदर सिंह, महंत मंगलदास, महंत जगतार मुनि, महंत धूनीदास, महंत अरुण दास, महंत सुरजीत मुनि सहित अनेक गणमान्य लोग मौजूद रहे।
 

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना