पतंजलि योगपीठ में श्रावणी उपाकर्म (रक्षाबंधन पर्व) व उपनयन संस्कार कार्यक्रम

सनातन वैदिक धर्म का मूल स्वरूप पतंजलि योगपीठ में दृष्टिगोचर होता है: पूज्य आचार्य बालकृष्ण

पतंजलि योगपीठ में श्रावणी उपाकर्म (रक्षाबंधन पर्व) व उपनयन संस्कार कार्यक्रम

हरिद्वार। पतंजलि वैलनेस, पतंजलि योगपीठ-2 स्थित योगभवन सभागार में श्रावणी उपाकर्म (रक्षाबंधन पर्व) पर पतंजलि परिवार की बहनों ने पतंजलि योगपीठ के संस्थापक अध्यक्ष पू.स्वामी जी महाराज व महामंत्री प.पू.आचार्य बालकृष्ण जी महाराज को रक्षासूत्र बांधे। साथ ही पतंजलि के शैक्षणिक संस्थानों-पतंजलि वि.वि, पतंजलि गुरुकुलम् व आचार्यकुलम् के नव-प्रवेशित छात्र-छात्राओं का उपनयन संस्कार दीपारम्भ यज्ञ मंत्रोच्चारण के साथ कराया गया।
     इस अवसर पर परम पूज्य स्वामी जी महाराज ने कहा कि हमें सनातन के गौरव को अपने हृदय में संजोते हुए स्वर्णिम व परम वैभवशाली भारत गढ़ना है। जैसे हमने चंद्रमा के दक्षिणि ध्रुव पर पहुँचकर कीर्तिमान स्थापित किया, उसी प्रकार हमें शिक्षा, चिकित्सा, कृषि और उद्योग के क्षेत्र में अखण्ड-प्रचण्ड पुरुषार्थ करना है। यज्ञोपवित संस्कार पर छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज पतंजलि में सनातन धर्म की रक्षा के लिए ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र, दलित सब जाति, समुदाय व वर्गों के और भाईयों व बहन-बेटियों का एक-साथ यज्ञोपवित संस्कार करवाया गया है जो इस बात का प्रतीक है कि सनातन धर्म में जाति, स्त्री-पुरुष या लिंगभेद के नाम पर किसी प्रकार का कोई भेदभाव नहीं है। कार्यक्रम में परम पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने सम्पूर्ण देशवासियों को रक्षाबंधन की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि हमारा देश पर्व-त्यौहारों का देश है। उन्होंने कहा कि श्रावणी उपाकर्म के रूप में देश में संभवतः पतंजलि पहली संस्था है जहाँ 1500 से ज्यादा बहन-बेटियों व बेटों का उपनयन संस्कार हो रहा है। आज यहाँ देश के हर धर्म, जाति, मत-पंथ, समुदाय व क्षेत्र के भाई-बहन उपस्थित हैं। यह तथ्य पर्याप्त है कि सनातन वैदिक धर्म का विशुद्ध रूप व उसका मूल स्वरूप पतंजलि योगपीठ में दृष्टिगोचर होता है। पतंजलि हमारी संस्कृति, परम्परा व धर्म के वैज्ञानिक स्वरूप को पुनः स्थापित करने के लिए कृत संकल्पित है। आज हमारे पर्व-त्यौहारों को उनके मूल स्वरूप में मनाने की महति आवश्यकता है।

0b1a069c-56f6-47de-bf81-610d56ab7bb0

  कार्यक्रम में बहन रेणु श्रीवास्तव, बहन ऋतम्भरा शास्त्री, बहन साध्वी आचार्या देवप्रिया, बहन अंशुल, बहन पारूल, साध्वी देवसुमन, साध्वी देवादिति, साध्वी देवविजया, साध्वी देवमयी आदि ने पूज्य स्वामी जी महाराज व श्रद्धेय आचार्य जी महाराज को रक्षासूत्र बांधे। इस अवसर पर पतंजलि फूड्स लि. के एम.डी. श्री रामभरत, भाई राकेश कुमार, स्वामी परमार्थदेव, डाॅ. जयदीप आर्य, स्वामी आर्षदेव, स्वामी ईशदेव, पतंजलि संन्यासाश्रम के संन्यासी भाई व साध्वी बहनें, पतंजलि विश्वविद्यालय, पतंजलि गुरुकुलम्, आचार्यकुलम् के प्राचार्यगण, आचार्यगण, छात्र-छात्राएँ तथा कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना