वाइब्रेंट विलेज योजना के तहत आयोजित बाइक रैली को हरिद्वार से पूज्य आचार्य श्री ने झण्डी दिखाकर किया रवाना

बाइक रैली : उत्तराखण्ड के दुर्गम, दूरस्थ गाँवों से पलायन रोकने के लिए पतंजलि योगपीठ प्रतिबद्ध : पूज्य आचार्य जी महाराज

वाइब्रेंट विलेज योजना के तहत आयोजित बाइक रैली को हरिद्वार से पूज्य आचार्य श्री ने झण्डी दिखाकर किया रवाना

हरिद्वार। नेहरू इंस्टीट्यूट आफ माउंटेनियरिंग उत्तरकाशी की वाइब्रेंट विलेज योजना के तहत आयोजित बाइक रैली को पतंजलि योगपीठ के महामंत्री परम पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने गंगा स्वरूप आश्रम से रवाना किया। इससे पहले परम पूज्य आचार्य जी महाराज ने स्वयं बाइक चलाकर माउंटेनियरिंग ग्रुप का उत्साहवर्धन किया। बाइक रैली प्रदेश के 11 जिलों का भ्रमण करेगी जिसमें हरिद्वार 10वाँ जिला है। इस जागरूकता रैली का उद्देश्य उत्तराखण्ड में पहाड़ी दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों से पलायन को रोकना तथा खाली पड़े गाँवों को दोबारा बसाना है।
    इस अवसर पर प.पू.आचार्य बालकृष्ण जी महाराज ने कहा कि उत्तराखंड के दुर्गम, दूरस्थ गाँवों से पलायन रोकने के लिए पतंजलि योगपीठ प्रतिबद्ध है। आज पतंजलि की सेवाओं का लाभ उत्तराखंड के अति दुर्गम पर्वतीय गाँवों तक पहुँचाया जा रहा है। पहाड़ के नागरिकों को शिक्षा, चिकित्सा तथा स्वास्थ्य जैसी मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु पतंजलि ने कदम बढ़ाया है। पहाड़ों से पलायन रोकने के लिए पतंजलि ने पहाड़ों पर ही लघु उद्योग के माध्यम से युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया है।
     परम पूज्य आचार्य जी महाराज ने कहा कि हमने प्रदेश के किसानों के लिए बेहतर विकल्प प्रस्तुत किए हैं जिनसे उनकी आय में वृद्धि हुई है। समय-समय पर किसानों को जैविक कृषि प्रशिक्षण दिया जा रहा है। मौसम तथा भूमि के अनुसार उन्हें दलहन, तिलहन तथा पहाड़ी वातावरण के अनुसार उत्तम कृषि उत्पादों की जानकारी दी जा रही है जिसका लाभ प्रदेश के किसानों को मिल रहा है। इससे पहाड़ से पलायन में भी कमी आई है। उल्लेखनीय है कि यह बाइक रैली गंगा स्वरूप आश्रम पहुँची थी जहाँ हरिद्वार सांसद श्री रमेश पौखरियाल निशंकने माउंटेनियरिंग ग्रुप का स्वागत किया था। इस अवसर पर नेहरू इंस्टीट्यूट आफ माउंटेनियरिंग उत्तरकाशी के प्रधानाचार्य कर्नल अंशुमन भदौरिया, उप-प्रधानाचार्य मेजर देवल वाजपेयी तथा पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी जी उपस्थित रहे।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना