जीवन को आगे बढ़ाते हैं अनुशासन और संस्कार: डाॅ. देवप्रिया

सम्मानित: सिरमौर कला संगम ने ददाहू में 11 लोगों को किया सम्मनित

जीवन को आगे बढ़ाते हैं अनुशासन और संस्कार: डाॅ. देवप्रिया

सिरमौर (हिमाचल प्रदेश)। हिमाचल प्रदेश सिरमौर कला संगम ने ददाहू के बायरी में 64वां वार्षिक महा अलंकरण समारोह आयोजित किया। इस दौरान कला, साहित्य, लोकगीत, समाजसेवा, संगीत आदि क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए 11 लोगों को सम्मानित किया गया।
  समारोह में पतंजलि विश्वविद्यालय हरिद्वार की विभागाध्यक्षा एवं मुख्य केन्द्रीय प्रभारी (महिला पतंजलि योग समिति) पूज्या साध्वी डाॅ. देवप्रिया जी ने कहा कि- नियम, अनुशासन और संस्कार ही मनुष्य के जीवन को आगे बढ़ाते हैं। स्वास्थ्य, सेवा व संस्कार के लिए अपने शरीर का आकलन स्वयं करके देखें।
विकार व बुराई स्वतः उभर कर सामने आएगी। मनुष्य अपने जीवन में समय की कटिबद्धता को समझें। उन्होंने कहा कि भारत स्वाभिमान का मुख्य उद्देश्य विश्वभर में शिक्षा, स्वास्थ्य व सेवा को मजबूत करके लोगों को बेहतर जीवन जीने की राह पर ले जाना है। आने वाले दौर में आयुर्वेद व योग के बल पर ही जीवन को जीता जा सकेगा। इस का परिणाम कोरोना काल में भारत को मिल भी चुका है। पू.साध्वी जी ने कहा कि शरीर का मरना निश्चित हैं, लेकिन यह मनुष्य पर आधारित है वह अपने शरीर को किस दिशा मंे मृत्यु की राह पर धकेलता है। उन्होंने कहा कि आगामी 20 वर्षों में शिक्षा के क्षेत्र में बड़ी क्रांति आने वाली है। नई शिक्षा पद्धति के तहत बचपन से ही देश के हर बच्चे को संस्कारी, शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक व आर्थिक तौर पर शिक्षित किया जाएगा।
    उनका संगठन इस कार्य में जुटा हुआ है। उन्होंने बताया कि देशभर में 15 लाख व हिमाचल प्रदेश में 9,000 महिलाएं उनके संगठन से जुड़कर अपने लक्ष्य पर निकल पड़ी हैं। इसके सार्थक परिणाम भी शीघ्र देखने को मिलेंगे।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना