पतंजलि योगपीठ के सैकड़ों प्रचारक षहर में बांटेंगे पत्रक

योग संस्कृति और परम्परा को झांकियों के माध्यम से किया जायेगा प्रदर्शित

पतंजलि योगपीठ के सैकड़ों प्रचारक षहर में बांटेंगे पत्रक

कासगंज (उत्तर प्रदेश)। कासगंज में 8 से 10 अप्रैल तक योग ऋर्षि परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज के योग शिविर को लेकर पतंजलि योगपीठ ने तैयारियां युद्ध स्तर पर शुरू कर दी हैं।
कासगंज के बारह पत्थर मैदान में परम पूज्य स्वामी जी महाराज के योग समागम से पहले पतंजलि योगपीठ के सैकड़ों योग शिक्षक तूफानी जन सम्पर्क में जुट गये हैं। मुख्य केन्द्रीय प्रभारी आदरणीय श्री राकेश कुमार जी के नेतृत्व में योग शिविर की रणनीति तैयार की जा रही है। पतंजलि के कैम्प कार्यालय में सैकड़ों योग शिक्षक प्रतिदिन बैठक कर शिविर के सफल आयोजन को लेकर रणनीति तैयार कर रहे हैं। बैठक में श्री राकेश कुमार जी ने योग शिक्षकों एवं व्यवस्थापकों के साथ बैठक कर समितियों का गठन कर, समिति प्रभारियों को उनके दायित्व सौंपे साथ ही शिविर को सफल बनाने के लिए समिति प्रभारियों को गुर भी बताये। मुख्य केन्द्रीय प्रभारी आदरणीय श्री राकेश कुमार जी ने बताया कि 5 अप्रैल को कासगंज शहर में योग शिविर का आमंत्रण योग जन जागरण यात्रा के द्वारा दिया जायेगा। यह यात्रा पतंजलि योगपीठ कैम्प कार्यालय शारदा मैरिज होम से प्रारम्भ होकर शिविर स्थल बारह पत्थर मैदान पर सम्पन्न होगी। यात्रा में पतंजलि योगपीठ के सैकड़ों प्रचारक शहर में जनजागरण करते हुए पत्रक के द्वारा शहरवासियों को पूज्य स्वामी जी महाराज के निःशुल्क योग शिविर में पहुंचने के लिए आमंत्रण देंगे। इस जन जागरण यात्रा में भारतीय योग संस्कृति और परम्परा का झांकियों के माध्यम से प्रदर्शन भी किया जायेगा।
·         निःशुल्क योग शिविर को सफल बनाने के लिए पतंजलि परिवार द्वारा दायित्व सौंपे।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना