दीक्षारोहण :  आचार्यकुलम् के दीक्षारोहण संस्कार कार्यक्रम  में 10 कुण्डीय यज्ञ का आयोजन

दीक्षारोहण का पावन उत्सव सकारात्मक व पुरुषार्थ का संवाहक है, दीक्षा प्राप्त विद्यार्थियों को योग व यज्ञ के अनुशासन का सदैव पालन करना चाहिए: पूज्य आचार्य जी महाराज

    हरिद्वार। परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज व परम पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज द्वारा स्थापित आवासीय विद्यालय आचार्यकुलम् में सत्र 2022-23 की कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के दीक्षारोहण का पावन उत्सव वैदिक रीति से संपन्न हुआ। इस सुअवसर पर आचार्यकुलम् शिक्षण संस्थान में 10 कुण्डीय विशेष यज्ञ का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज व परम पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी महाराज की गरिमामयी उपस्थिति में सत्र 2022-23 की कक्षा 12वीं के 45 बालकों व 27 बालिकाओं सहित कुल 72 विद्यार्थियों का दीक्षारोहण वैदिक रीति से सम्पन्न हुआ।
     मंत्रोच्चार के मध्य परम पूज्य स्वामी जी महाराज ने प्रत्येक क्रियाविधि की सरल व्याख्या की तथा सभी विद्यार्थियों ने महाज्ञान ज्योतिसे अपने दीपों को प्रज्जवलित कर दीक्षारोहण की प्रतिज्ञा ली और आचार्यकुलम् से प्राप्त शिक्षा व संस्कारों को सर्वत्र प्रसारित करने का संकल्प व्यक्त किया। अंततः पूज्य स्वामी जी महाराज व पूज्य आचार्य जी महाराज ने सभी विद्यार्थियों को अपने प्रतीक चिन्ह भेंट किए और सुमनवृष्टि कर शुभाशीष प्रदान किया। पूज्य स्वामी जी महाराज ने कहा कि आचार्यकुलम विश्व का एकमात्र शिक्षण संस्थान है जहाँ योग व अध्यात्म से प्राप्त संस्कारों सेे विद्यार्थी का नित्य शिखारोहण होता है। इस अवसर पर पूज्य आचार्य जी महाराज ने कहा कि दीक्षारोहण का पावन उत्सव सकारात्मक व पुरुषार्थ का संवाहक है। उन्होंने कहा कि दीक्षा प्राप्त विद्यार्थियों को योग व यज्ञ के अनुशासन का सदैव पालन करना चाहिए।
   आचार्यकुलम् प्रबंधन की उपाध्यक्षा डाॅ. ऋतम्भरा शास्त्री व प्राचार्या श्रीमति आराधना कौल ने भी विद्यार्थियों को आगामी बोर्ड परीक्षाओं हेतु शुभकामनाएँ व शुभाशीष प्रदान किए। उक्त अवसर पर पतंजलि विश्वविद्यालय की कुलानुशासिका व डीन साध्वी देवप्रिया जी, श्री एन.पी. सिंह जी, बहन अंशुल, बहन पारूल, डाॅ. महावीर अग्रवाल जी, भाई राकेश कुमार एवं स्वामी परमार्थदेव सहित सभी आचार्य, कर्मचारीगण व विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना