विशिष्ट अभिव्यक्तियाँ  : विष्व अब तमाम परिवर्तनों से हट कर प्राचीन जीवन दर्षन पर विष्वास कर रही है ।

विशिष्ट अभिव्यक्तियाँ  : विष्व अब तमाम परिवर्तनों से हट कर प्राचीन जीवन दर्षन पर विष्वास कर रही है ।

   ‘आयुर्वेद इलाज से आगे बढ़कर कल्याण की बात करता है और कल्याण को बढ़ावा देता है। विश्व भी अब तमाम परिवर्तनों और प्रचलनों से निकलकर इस प्राचीन जीवन दर्शन की तरफ लौट रहा है। मुझे खुशी है कि भारत में इसको लेकर बहुत पहले से ही काम शुरू हो चुका है।भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी नौवें विश्व आयुर्वेद सम्मेलन और आरोग्य एक्सपोके समापन सत्र को संबोधित करने के लिए तटीय राज्य गोवा पहुंचे थे। आयुर्वेद सम्मेलन में 50 से अधिक देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।
    आयुर्वेद को लेकर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने कहा, ‘हमारे पास आयुर्वेद का परिणाम भी था, प्रभाव भी था, लेकिन प्रमाण के मामले में हम पीछे छूटे रहे थे। इसलिए, आज हमें डेटा बेस्ड एविडेंसेसका डाॅक्युमेंटेशन करना अनिवार्य है। इसके लिए हमें लम्बे समय तक निरंतर काम करना होगा।

Related Posts

Advertisement

Latest News

आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद आयुर्वेद में वर्णित अजीर्ण का स्वरूप, कारण व भेद
स शनैर्हितमादद्यादहितं च शनैस्त्यजेत्।     हितकर पदार्थों को सात्म्य करने के लिए धीरे-धीरे उनका सेवन आरम्भ करना चाहिए तथा अहितकर पदार्थों...
अयोध्या में भगवान श्री रामजी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव
ऐतिहासिक अवसर : भारतीय संन्यासी की मोम की प्रतिकृति बनेगी मैडम तुसाद की शोभा
पतंजलि योगपीठ में 75वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कार्यक्रम
भारत में पहली बार पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में कोविड के नये वैरिएंट आमीक्रोन JN-1 के स्पाइक प्रोटीन पर होगा अनुसंधान
आयुर्वेद अमृत
लिवर रोगों में गिलोय की उपयोगिता को अब यू.के. ने भी माना