पतंजलि संगठन-सेवा कार्य संक्षिप्त विवरण

पतंजलि संगठन-सेवा कार्य संक्षिप्त विवरण

1. 500 विद्वान् व्याकरणाचार्य, दर्शनाचार्य, योगाचार्य, विद्वान व श्रेष्ठ संन्यासी व आचार्य तैयार हो चुके हैं और 5 वर्षों में 1000 से अधिक आदर्श योगी एवं कर्मयोगी संन्यासी तैयार करके ऋषियों के सच्चे उत्तराधिकारी भारत माता की सेवा में समर्पित करना है। 2. एक लाख से अधिक ग्राम समितियाँ पूरे देश में संगठित रूप से गाँवों में कार्यरत हैं जो खण्ड, प्रखण्ड एवं वार्ड समितियों के अन्तर्गत तहसील व जिला समितियों के समन्वय से 95,225 ग्रामों में योग चिकित्सा शिविर लगाये गये, 5,260 नशा-मुक्ति शिविर, 75,260 विद्यालयों में योग शिविर,…

1. 500 विद्वान् व्याकरणाचार्य, दर्शनाचार्य, योगाचार्य, विद्वान व श्रेष्ठ संन्यासी व आचार्य तैयार हो चुके हैं और 5 वर्षों में 1000 से अधिक आदर्श योगी एवं कर्मयोगी संन्यासी तैयार करके ऋषियों के सच्चे उत्तराधिकारी भारत माता की सेवा में समर्पित करना है।

2. एक लाख से अधिक ग्राम समितियाँ पूरे देश में संगठित रूप से गाँवों में कार्यरत हैं जो खण्ड, प्रखण्ड एवं वार्ड समितियों के अन्तर्गत तहसील व जिला समितियों के समन्वय से 95,225 ग्रामों में योग चिकित्सा शिविर लगाये गये, 5,260 नशा-मुक्ति शिविर, 75,260 विद्यालयों में योग शिविर, 500 जिलों में स्वच्छता अभियान, आदर्श ग्राम निर्माण अभियान, 10 लाख औषधीय पौधों का वृक्षारोपण एवं जड़ी-बूटी वितरण कार्यक्रम आयोजित किये गये तथा 10 हजार यूनिट से अधिक रक्तदान किया गया, गरीब कन्या विवाह, 1000 से अधिक तहसीलों में स्वदेशी खेलकूद, योग प्रतियोगिताओं एवं 10 हजार से अधिक किसानों को गौ-आधारित जैविक कृषि का प्रशिक्षण इत्यादि सेवा कार्यों को संगठन द्वारा निरंतरता के साथ किया जा रहा है।

3. 6 संगठन भारत स्वाभिमान, पतंजलि योग समिति, महिला पतंजलि योग समिति, युवा भारत, पतंजलि किसान सेवा समिति व हाम्रो स्वाभिमान सम्पूर्ण भारत में सेवारत हैं, एवं इनके विधिवत् जिला कार्यालय स्थापित हैं।
प्रशिक्षित योग शिक्षक- हरिद्वार में आवासीय प्रशिक्षित लगभग 2.26 लाख तथा देशभर में प्रारम्भिक साप्ताहिक योग प्रशिक्षण प्राप्त लगभग 10 लाख सहयोगी योग शिक्षक हैं।

सम्पूर्ण भारत में 640 से अधिक जिला समितियाँ एवं सम्पूर्ण भारत में 4560 तहसील समितियाँ सक्रियता से योग व राष्ट्र सेवा में कार्यरत हैं।

4. 1 करोड़ कार्यकर्ता- संगठन के लगभग 1 करोड़ कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने संगठन में दान देकर सदस्यता ली है तथा संगठन में सेवा व सहयोग करते हैं।

5. एक लाख योग कक्षायें- इनके माध्यम से एक लाख से अधिक निःशुल्क स्थायी योग कक्षायें पूरे देश में चल रही हैं।

6. 600 योग प्रचारक पूर्णकालिक रूप से पतंजलि योगपीठ की सेवाओं के प्रचार में अहर्निश संलग्न हैं। योग प्रचारकों द्वारा 3 वर्षों में 70 हजार गाँवों में योग शिविर लगाए गये, 51,763 स्वच्छता अभियान/जन जागरुकता रैलियाँ निकाली गयी, 1,52,566 आरोग्य सभायें तथा 65,462 योग शिविर व 30,112 वृक्षारोपण इत्यादि कार्यक्रम आयोजित किये।

7. प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से 100 करोड़ से अधिक लोगों तक योग का संदेश पहुंचाया एवं करोड़ों लोगों की जीवन पद्धति में एक सकारात्मक परिवर्तन हुआ है। एक रोगमुक्त, जातिमुक्त, नशा, प्रमाद एवं अन्य बुराईयों से मुक्त व्यक्ति, समाज एवं राष्ट्र के निर्माण में सेवा कार्य संचालित हैं।

8. रोजगार- 2 लाख किसानों व युवाओं को प्रत्यक्ष-परोक्ष रोजगार प्रदान किया गया।

9. भारत सरकार द्वारा आयोजित-अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह-

* 2015 में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के आपश्री के दिल्ली में भाग लेने वाले 35 हजार लोगों में से गैर-सरकारी संगठनों में सर्वाध्कि भागीदारी 5 हजार 500 से अधिक पतंजलि योगपीठ की रही।
* 2016 में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के चंडीगढ़ में भाग लेने वाले 32 हजार लोगों में सर्वाध्कि भागीदारी 12 हजार से अधिक पतंजलि योगपीठ की रही।
* 2017 में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के आपश्री के लखनऊ में भाग लेने वाले 51 हजार लोगों में भागीदारी 22 हजार 500 से अधिक पतंजलि योगपीठ की रही।
 *2018 में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के आपश्री के देहरादून में भाग लेने वाले 50 हजार लोगों में भागीदारी 13 हजार से अधिक पतंजलि योगपीठ की रही।

10. पतंजलि योगपीठ द्वारा आयोजित-अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह-

* 2015 में आयोजित करनाल, हरियाणा में 37 हजार से अधिक संख्या रही।
 *2016 में आयोजित पफरीदाबाद, हरियाणा में 2 लाख से अधिक संख्या रही।
 *2017 में आयोजित अहमदाबाद, गुजरात में 4.5 लाख से अध्कि संख्या रही।
* 2018 में आयोजित कोटा, राजस्थान में 2 लाख से अध्कि साध्क संख्या रही।

11. विश्व रिकाॅर्ड- योग के क्षेत्रा में 3 गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकाॅर्ड तथा 142 गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकाॅर्ड स्थापित किये गये।

* राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह- दुर्ग, छत्तीसगढ़ में एक साथ 1 लाख 20 हजार युवाओं द्वारा सूर्य नमस्कार का वल्र्ड रिकाॅर्ड बनाया गया।

12. अनुसंधन- आपश्री के कर कमलों से लोकार्पित विश्व का प्रथम सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेद शोध संस्थान पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट विश्व की सबसे बड़ी संस्थाएं पतंजलि योगपीठ, योगग्राम निरामयम्, पतंजलि आयुर्वेद, दिव्य पफार्मेसी एवं राष्ट्रव्यापी संगठन के माध्यम से भारत माता की विनम्र सेवा चल रही हैं।

13. आस्था, संस्कार, वैदिक चैनल, सोशल मीडिया, ट्विटर , फेसबुक, यूट्यूब के माध्यम से करोड़ों लोगों को योग आयुर्वेद स्वदेशी एवं ऋषि संस्कार से जोड़ा है।

Related Posts

Advertisement

Latest News