येचुरी पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का मुकदमा दर्ज

येचुरी पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का मुकदमा दर्ज

श्रद्धेय स्वामी जी महाराज के नेतृत्व में दी तहरीर, पुलिस ने धार्मिक भावनाएं आहत करने का केस दर्ज हिन्दुओं को हिंसक कहने पर बिफरे संतों ने सीताराम येचुरी को दिया रावण नाम, लगाए मुर्दाबाद के नारे हरिद्वार(5 मई, 2019)। माकपा नेता सीताराम येचुरी के खिलाफ हरिद्वार में देर शाम पुलिस ने धार्मिक भावनाएं भड़काने का मुकदमा दर्ज कर लिया। इससे पहले योगर्षि श्रद्धेय स्वामी रामदेव जी महाराज के नेतृृत्व में संतों ने हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक (एसएसपी) जन्मजेय खंडूड़ी से मुलाकात कर येचुरी के खिलाफ तहरीर दी थी। हरिद्वार…

  • श्रद्धेय स्वामी जी महाराज के नेतृत्व में दी तहरीर, पुलिस ने धार्मिक भावनाएं आहत करने का केस दर्ज

  • हिन्दुओं को हिंसक कहने पर बिफरे संतों ने सीताराम येचुरी को दिया रावण नाम, लगाए मुर्दाबाद के नारे

हरिद्वार(5 मई, 2019)। माकपा नेता सीताराम येचुरी के खिलाफ हरिद्वार में देर शाम पुलिस ने धार्मिक भावनाएं भड़काने का मुकदमा दर्ज कर लिया। इससे पहले योगर्षि श्रद्धेय स्वामी रामदेव जी महाराज के नेतृृत्व में संतों ने हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक (एसएसपी) जन्मजेय खंडूड़ी से मुलाकात कर येचुरी के खिलाफ तहरीर दी थी। हरिद्वार के पुलिस अधिक्षक (नगर) कमलेश उपाध्यक्ष ने इसकी पुष्टि की है।
                माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा था कि रामायण और महाभारत जैसे ग्रंथों से साबित होता है कि हिन्दू भी हिंसक हो सकते हैं। माकपा नेता के बयान से संतों का पारा सातवें आसमान पर है। योगर्षि स्वामी रामदेव जी महाराज और भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वामी सत्यामित्रानन्द गिरि के नेतृत्व में संतों ने संयुक्त से मीडिया से बातचीत की। श्रद्धेय स्वामी जी महाराज ने कहा कि येचुरी ने सामाजिक, धार्मिक और राष्ट्रीय पाप किया है। उन्होंन बगैर रामायण, महाभारत, वेद और उपनिषद पढ़े यह टिप्पणी कर डाली कि हिन्दू स्वभाव से ही हिंसक होते हैं। उन्होंने कहा कि यह घोर आपत्तिजनक है। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम और श्रीकृष्ण के चरित्र पर अंगुली उठाना हमारी सहिष्णुता के खिलाफ है। इस कृत्य के लिए येचुरी को माफी मांगनी चाहिए। श्रद्धेय स्वामी जी महाराज ने कहा कि कम्यूनिस्ट तो रक्तक्रांति में विश्वास रखते हैं। उन्हांेने सवाल उठाया कि कहा कि श्रीराम और श्रीकृष्ण ने यदि किसी निर्दोष की हत्या की हो तो येचुरी इसका प्रमाण दिखाएं। उन्हांेने कहा कि यदि येचुरी को इतनी आपत्ति है तो वह अपना नाम रावण, कंस, बाबर और तैमूर आदि रखें। चेतावनी दी कि यदि उन्होंने शीघ्र माफी नहीं मांगी तो संत समाज सड़कों पर उतरने को विवश होंगे। उन्हांेने देश भर के लोगों का आह्वान किया कि येचुरी के खिलाफ एफआरआइ दर्ज कराएं।
              भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानन्द गिरी महाराज ने कहा कि येचुरी हिंदुओं को हिंसक बताते हैं। भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया। उन्होंने पूछा क्या इसे हिंसा कहेंगे। कहा कि सीतराम को अपना नाम बदलकर रावण रखना चाहिए। आक्रोशित स्वामी सत्यामित्रानन्द यहां तक कह गए कि ‘येचुरी को तोप से उड़ा दिया जाए तो परमात्मा की कृपा होगी’। उन्होंने कहा कि अपने इस बयान के लिए वह जेल जाने को भी तैयार है। -साभारः दैनिक जागरण

  • देर शाम पुलिस संतों की तहरीर पर दर्ज किया मामला।
  • येचुरी ने किया धार्मिक, सामाजिक और राष्ट्रीय पाप: श्रद्धेय स्वामी जी महाराज

Related Posts

Advertisement

Latest News